Wednesday, 26 July 2017

25 Tiny Habits That Could Totally Change Your Life




Research, as well as common sense and personal experience, is showing us that small steps get us to far away places. The key is to consistently take those small steps in the same direction. Building a big, life-changing habit is difficult: it’s hard to keep the willpower going long enough to see change.
But building a tiny habit? That’s doable. BJ Fogg, Director of the Persuasive Tech Lab at Stanford, has done extensive research this very topic. The Fogg Method uses the effectiveness of tiny, specific habits to create big changes in behavior.
Here are 25 tiny habits you could add into your life. They don’t seem like much, but if you practice them regularly, they can change your energy level, your fitness, your relationships, your work, your community, and your environment… in big ways.

Tiny Habits for Better Physical Health

1. Drink a glass of water first thing in the morning. We often don’t get enough water in our systems, and get so busy throughout the day that we don’t think about stopping to replenish our supply. Or we replenish with soda or coffee or tea but not water. Trigger yourself by leaving a big glass out on the counter or table. Or do what I do, and get a big travel mug with a lid. At night, I fill it up with a lot of ice and a bit of water, and in the morning it’s waiting for me: a nice, cool cup of water. Flush the toxins, kickstart your system, wake yourself up.
2. Park as far away as you can from the door. Fight the effects of a sedentary lifestyle by getting more steps into your day whenever you can. In fact, simple things like a longer stroll from the car to the door might be more effective than a vigorous work-out at counteracting the effects of long hours at a desk.
3. Eat raw fruit or vegetables with every meal. Think: a green side salad, a slice of melon, some berries, a few carrot sticks and cucumber slices. Not only will you get more nutrients in, you will also be getting in more fiber and potentially helping your body lose weight, retain energy, and decrease hunger.
4. Stand up and stretch every hour, on the hour. Trigger yourself with a beep on your phone or watch (do people still wear those?) or computer. Sitting for extended time periods is a bad idea for both your body and your brain. You need a mental and physical break, and it doesn’t have to be a big deal. Just stop, when your on-the-hour beep sounds at you. Stand up where you are, reach over your head, take a deep breath, touch your toes, roll your shoulders.
5. Carry a small bag of nuts or beef jerky everywhere you go. Something protein-rich will help stave off hunger as well as keeping you from getting to that ravenous point when you’ll eat anything in sight, no matter what the calorie count is. Getting a little more protein in your diet can help boost your metabolism and build your muscle
, as well.

Tiny Habits for Better Mental Health

1. Ask open-ended questions. Instead of throwing out questions just so you can insert your own opinion, ask bigger, better questions. Avoid asking questions that can be answered with a simple Yes or No. Try questions that start with “What do you think about…?” and “How would you….?” or “What is your experience with…?” Then listen to the answers with the attitude that you are here to learn. Having an open perspective and initiating deeper conversations will help you to relate with others, cultivate empathy, keep your own problems in perspective, make new friends, and learn new ways of approaching life. Imagine the wisdom you would gain in five or ten years if you just have one of these conversations every week.
2. Keep a tray of art supplies out on your table/desk/shelf. Don’t force or even expect yourself to clock in a certain number of minutes or productions. Just keep them out, in reach, so that when you feel like doodling around with something artistic, it is effortless. Bonus points: switch the art medium out every week or month (pastels, crayons, watercolors, ink, clay, playdough, carving knife & wood block).
3. Sit in silence for a few minutes every day. We don’t have to call this meditation, because that might be a little too intimidating. You don’t have to sit cross-legged. You don’t have to close your eyes. You don’t have to be Zen-like in anyway. Your brain can be flying a hundred miles an hour, but don’t say or do anything. Just sit, comfortably, and breathe for a few minutes.
4. Jot down everything on your mind for a few minutes at the end of the day. This is a brain dump in the easiest way possible. It’s not a big deal like a daily journal or to-do list or planner might feel. Keep a simple notebook by the bed, and give yourself a few minutes to pour out everything that’s on your mind before you go to sleep. Don’t edit. Let it all out, in any format, in any order. It doesn’t have to make sense, even to you. Studies show that this type of writing can reduce anxiety and depression. Alternative: use a voice recorder and simply talk, in unedited stream-of-consciousness style, for a few minutes into your recorder.
5. Repeat a personal mantra to yourself when you hit stress points. Make it something simple to remember that calms you and reminds you of the important things in life. This is a simple way to retrain your brain and tell it how to respond to stress. Instead of letting stressful points send you into a panicked mode, you pull out your mantra and tell your brain that it’s going ot be okay. A few of my favorites: This too shall pass. I am stronger than I think. I can learn what I need to learn when I need to learn it. I’ve handled worse than this. I am not alone. There is freedom here. When I take responsibility, I take power.

Tiny Habits for Better Productivity and Work

1. Pretend to be your hero. When you’re faced with a challenging situation, an intimidating project, a new career leap, an important meeting, think about a hero in your industry or career. Then ask yourself what this person would do in your situation. How would she handle it? Would he be intimidated? Fearful? Or confident and calm? Now imagine yourself doing exactly what you think your would do. This helps to clarify what the right actions are for you by removing the self-doubt and negative self-talk that can bog you down in uncertainty.
2. Do a 5-minute daily review at your desk at the end of the day. Before you leave work, or from your desk at home before you wrap things up for the day (or night!), take five minutes. Write down what you accomplished in a quick, bulleted list. Write down what you didn’t accomplish that you had hoped to, and what stopped you. Don’t beat yourself up for your failures, just notice, if you can, what caused you to get off track. And notice how much you did accomplish. This type of review is a way to help your brain focus on the positive (I did accomplish something today) and will help you to become more aware of the things that tend to derail you or distract you from productive work.
3. Turn off all notifications for at least one long block of work time every day. Our brains are not adept at switching from one task to another. The single ding of an email notification or text, even if it’s about something completely unimportant, can cause you to lose up to 40% of your work time. Is it really worth it? Maybe if you have infinite time at your disposal… But we all know that you don’t. So do yourself and your career a favor, and silence all the dings and chirps for at least one long block of time (2 – 4 hours).
4. Respond to all invitations and opportunities with “I’ll check my calendar.” Stop the knee-jerk response that you give, whether it is negative or positive. Maybe you’re too quick to say no (I am). Or maybe you’re a people-pleaser and you’re too quick to say yes, and find yourself over-booked and overwhelmed. Give yourself time to evaluate each opportunity by simply making it your practice not to answer right away. Instead, say, “I’ll check my calendar and let you know.” Then, when you have a little time, check your calendar, your priorities, and determine what you can fit it in.
5. Spend 5 minutes a day thinking about the process you will take that will get you to your career goals. This is the right kind of positive visualization. Visualizing the end result doesn’t usually help you get there. But visualizing yourself doing the steps you will take to reach your end goal can help you to actually follow-through on those steps when it is time.

Tiny Habits for Better Relationships

1. Call, text, or email one friend or family member a day. Staying in touch has never been easier, but it’s all too easy to only connect with the people we see at work or the ones who just won’t stop showing up in our Facebook feed. Reach out a little further than that to stay connected with the friends and family members you value. It only takes a few minutes to invest in a relationship, with the result that you have a strong network of people around you, both near and far.
2. Write a thank you note every week. This can be an exercise solely for you: write a thank-you note to someone who’s passed on but impacted your life, and tell them all the things you wish you could say in person. Or write a note of thanks to someone who is or was part of your life and send it to that person. Cultivating gratitude helps to lessen the fear in your life. How much better would your life be if you had trained yourself to be appreciative instead of afraid?
3. End your night with a word of thanks or encouragement. This is the kind of simple habit that can make or break a lifelong relationship. Before you roll over and go to sleep, let your significant other know you accept and value him or her. You don’t have to be elaborate: “I love being with you,” or “Thanks for being there for me,” sends the right message. If you’re not in a relationship, give yourself a word of thanks or encouragement. Sounds silly? Maybe. But it can help build your confidence and keep you from letting one bad day spiral into depression.
4. Pause before you answer or respond to people. Train yourself to listen well, by giving yourself time to think up your response in that pause, not while the other person is talking. This not only shows that you value what the other person is saying (which communicates acceptance and respect) but it also gives you time to weigh your attitude and words. In a high-tension situation or stressful conversation, a simple five-second pause might be what keeps you from blowing up and ruining a relationship you value.
5. Give yourself a time out. Life happens. You’re going to hit points when you feel stressed, frustrated, angry, or impatient. That’s okay, because if you can give yourself a time-out then you can keep things in perspective. You can’t expect yourself to be a non-emotional robot, but you can train yourself to take a five-minute break from humanity when things are getting to you. Walk around the block, lock yourself in the bathroom, take a quick drive with the windows down and the music blaring. Find the “time-out chair” that works for you, and use it.

Tiny Habits for a Better Community and Environment

1. Take a short walk around the block with a trash bag and pick up litter. This weekly or daily ritual will help you to be more aware of how you treat your daily environment, and you never know the effect it can have on others. Sometimes just one person taking the time to make something better can spark others to take better care of things, as well.
2. Stop and say hi to your neighbors. Make it a habit to do a little more than a nod or smile. It takes just a moment, whenever you see them out, to walk over and say hello. Create a friendlier community and help the people around you get plugged in, too. Some of my best friends are neighbors who were willing to lean over the fence and chat for a minute. Now they’re the ones calling to see if I need anything when they run to the store, or offering to babysit my kids if I’m not feeling well.
3. Borrow before you buy for big purchases. It’s not always possible, but why not try it? Save money and help the environment. Make it a habit to borrow first, try it out, and see if it’s what you really need/want/must have. Then try to buy used before you buy new. Obviously this won’t apply to every big purchase… but it will apply to a lot.
4. Set aside money for giving. It can be a small amount. Really. Five dollars can make a big difference to somebody. Out of every paycheck, or every month’s total income, put aside a small bit for giving. It has to be no-strings-attached, and anonymous is the way to go whenever possible. Help out your neighbors. Donate to a charity. Buy that homeless guy a meal. We are all part of the same human family.
5. Keep your bike out where you can see it. No, you don’t have to use it… Just put it out there, in front of you, where you can eyeball it. Every day, when you run to the car and hop in. Wait, you don’t have a bike? Hmmm. Maybe call up a neighbor and see if you can borrow one.
Featured photo credit: somegeekintn via flickr.com
Source: http://www.lifehack.org

If You Understand These 5 Rules In Psychology, You Can Live A Much Easier Life

Understanding the psychology of ourselves and others around us can play a huge part in our happiness. We are all suffering from limiting beliefs gained from past experiences and interactions with others inhibiting the ease with which we live our lives. Whether it’s believing we aren’t good enough because we’re told we should be at a certain point in our lives by a certain time, bringing about feelings of failure, or simply misunderstanding others’ intentions or reactions to us, we need to get into a better mindset that will straighten out our perceptions and limit the amount of negativity that we see and think about ourselves.

Making a habit of using these psychological rules is crucial to living an easier life and will help you to see the world in a whole new light.

1. People Don’t Care As Much As You Think

It may sound harsh, but essentially it’s true. Being so caught up in what others think of us or acting in a way that will meet (what we think are) other people’s expectations is detrimental to us because everyone is wrapped up in their own problems and insecurities.
It’s much better to try to keep this in mind, as most of what we believe people are thinking are only assumptions our own minds create based on past experiences or incorrect perceptions and interpretations. Being yourself without worrying what others think will go a long way in achieving personal happiness.

2. We Are Constantly Changing Who We Are

It’s easy to think that we are the same person we were ten years ago and will be thinking and feeling the same in another ten years, but we’re not. Our past, present and future selves are all essentially independent because our mindsets change with our lives’ circumstances and experiences.
Because of this, we should always be true to our present selves when making decisions. We can never predict what our future self will think and feel, and everything that happened in the past was for our past selves. The power is all in the now.

3. Stop Comparing Yourself To Others

With social media pressuring many of us to post the best moments, it can be easy to start comparing ourselves to others’ seemingly ‘perfect’ lives. In real life, we still tend to show our best side to people rather than showing vulnerability out of fear of being judged or rejected.
The truth is we are all vulnerable. We all want to be accepted by others. It is a huge waste of time to believe that people are somehow better than us and have their life sorted out, while seeing us for who we really are. Comparisons and feeling inferior to other people is futile because even the most powerful people have worries, insecurities and uncertainties inside them.


4. Don’t Assume Your Advice Will Be Listened To

Ever seen a friend’s glaring problem and know what they need to do to sort it out? You give advice but it just seems to fall on deaf ears. You feel frustrated because, after all, you just want to help them. The thing is, no one ever really listens to advice unless they happen to be in the right mindset at the right time.
At the end of the day, people will only change their mindsets or outlooks through their own realisations and experiences. Sometimes it may come in the form of your advice but most of the time it needs to happen for them at their own pace. Don’t feel ignored or disheartened – you did your bit, now let them work it out.

5. You Can Only Control Your Response

How you react to a problem, event or situation is much more important than the situation itself. In life, attitude is everything in how happy you become overall. You can choose to react in a way that will ricochet throughout your future thoughts, feelings and emotions or choose to acknowledge a better way.
In any negative situation, this can be hard, but remembering to take yourself out of it for a few seconds and reset your mind before reacting can help you train yourself to understand the possible repercussions for others and yourself.
Featured photo credit: Julian Jagtenberg via pexels.com
Source: http://www.lifehack.org/

अब्राहम लिंकन का पत्र


अब्राहम लिंकन का पत्र
letter
तत्कालीन अमरीकी राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन, जिन्हें गुलामों का मुक्तिदाता भी कहा जाता है, जिन्होंने देश  को विभाजित होने से बचाया, गरीब परिवार में जन्में थे. लिंकन प्रारंभ से ही मेहनती, सरल स्वभाव के और बुद्धिमान थे. आजीविका चलाने और पढ़ाई के लिए उन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा.

उन्होंने कभी भी किसी काम को छोटा नहीं समझा. कहा जाता है कि अमेरिका में कई महान नेता पैदा हुए किन्तु दासों और कमजोर वर्गों के प्रति पिता समान व्यव्हार करने वाले लिंकन जैसा कोई नेता पैदा नहीं हुआ.
राष्ट्रपति लिंकन ने यह पत्र अपने पुत्र के शिक्षक को लिखा था. यह पत्र एक ऐतिहासिक दस्तावेज है.
प्रिय गुरूजी,

मैं अपने पुत्र को शिक्षा के लिए आपके हाथों सौंप रहा हूँ. आपसे मेरी अपेक्षा यह है कि इसे ऐसी शिक्षा दें जिससे यह सच्चा इंसान बन सके.

सभी व्यक्ति न्यायप्रिय नहीं होते, और न ही सब सच बोलते हैं. यह तो मेरा बच्चा कभी-न-कभी सीख ही लेगा. पर उसे यह अवश्य ही सिखाएं कि अगर दुनिया में बदमाश लोग होते हैं तो अच्छे नेक इंसान भी होते हैं. अगर स्वार्थी राजनीतिज्ञ हैं तो जनता के हित में काम करने वाले देशप्रेमी भी हैं. उसे यह सिखाएं कि अगर दुश्मन होते हैं तो दोस्त भी होते हैं. मुझे पता है कि इसमें समय लगेगा. परन्तु हो सके तो उसे जरूर यह सिखाएं कि मेहनत से कमाया एक पैसा भी, हराम से मिली नोटों की गड्डी से कहीं अधिक मूल्यवान होता है.
उसे हारना सिखाएं और जीत में खुश होना भी सिखाएं, हो सके तो उसे राग-द्वेष से दूर रखें और उसे अपनी मुसीबतों को हंसकर टालना सिखाएं. वह जल्दी से जल्दी यह सब सीखे कि बदमाशों को आसानी से काबू में किया जा सकता है.
अगर संभव हो तो उसे किताबों की मनमोहक दुनिया में अवश्य ले जाएँ, साथ-साथ उसे प्रकृति की सुंदरता, नीले आसमान से उड़ते आजाद पक्षी, सुनहरी धुप में गुनगुनाती मधुमख्खियाँ और पहाड़ के ढलानों पर खिलखिलाते जंगली फूलों की हँसी को भी निहारने दें. स्कूल में उसे सिखाएं की नक़ल करके पास होने से फैल होना बेहतर है.
चाहे सभी लोग उसे गलत कहें, परन्तु वह अपने विचारों में पक्का विश्वास रखे और उन पर अडिग रहे. वह भले ही लोगों के साथ नेक व्यव्हार करे और बदमाशों को करारा सबक सिखाए.
जब सब लोग भेड़ों की तरह एक ही रास्ते पर चल रहे हों, तो उसमें भीड़ से अलग होकर अपना रास्ता बनाने की हिम्मत हो.
उसे सिखाएं कि वह हरेक बात को धैर्यपूर्वक सुनें फिर उसे सत्य की कसौटी पर कसे. और केवल अच्छाई को ही ग्रहण करे.
अगर हो सके तो उसे दुःख में भी हँसने की सीख दें, उसे समझाएं कि अगर रोना भी पड़े, तो उसमें कोई शर्म की बात नहीं है. वह आलोचकों को नजरअंदाज करे और चाटुकारों से सावधान रहे. वह अपनी शरीर के ताकत के बूते पर भरपूर कमाई करे, परन्तु अपनी आत्मा और ईमान को कभी न बेचे. उसमें शक्ति हो कि चिल्लाती भीड़ के सामने भी खड़ा होकर, अपने सत्य के लिए जूझता रहे. आप उसे ऐसी सीख दें कि मानव जाति पर उसकी असीम श्रद्धा बनी रहे.
मैंने अपने पत्र में बहुत कुछ लिखा है. देखें इसमें से क्या करना संभव है…..
आपका शुभेच्छु
अब्राहम लिंकन.
Source: https://www.hamarisafalta.com

एक शिक्षक का करुणामयी पत्र



मेरे प्रिय विद्यार्थी,
letter
कैसे हो तुम? इन औपचारिक शब्दों के साथ तुम्हें पत्र लिखने का साहस कर रहा हूँ। वह भी इसलिए कि साल में एक बार मुझे सम्मानित करने का दुस्साहस

करते हुए तुम भी एक औपचारिकता निभा ही लेते हो। हम दोनों एक-दूसरे की पहचान है। हमारा एक-दूसरे के बिना कोई अस्तित्व ही नहीं है। मैं इस बात को अच्छी तरह से जानता हूँ, इसलिए मेरे पूरी कोशिश रहती है कि मैं अपने ज्ञान का एक-एक सुनहरा मोती तुम पर न्योछावर कर दूँ। जिसे स्वीकार कर तुम
जगमगा उठो। अपने इस कार्य में मैं पूरी ईमानदारी से जुटा हुआ हूँ। तुम्हें एक जिम्मेदार नागरिक बनाने का दायित्व मुझ पर है। बड़े होकर तुम डॉक्टर, इंजीनियर, कलेक्टर, उद्योगपति या कुछ और भी बनो लेकिन समाज के एक सभ्य नागरिक बनो, इसी कोशिश में मैं तुम्हें ज्ञान के साथ-साथ अच्छे संस्कार भी देता हूँ। न केवल आज, बल्कि सदियों से संस्कारों का उपहार तुम्हें देता चला आ रहा हूँ। मगर आज इन संस्कारों की कोई कीमत नहीं रह गई है और इनके साथ-साथ मेरा मूल्य भी घटता जा रहा है। आज इस बात को महसूस कर रहा हूँ। तभी अपनी व्यथा इस पत्र के माध्यम से तुम तक पहुँचाने का साहस भी कर पा रहा हूँ। हो सकता है मेरी इस पीड़ा से भीगे शब्द तुम्हें कड़वे लगे पर सच्चाई तो कड़वी होती है ना। एक बार इस कड़वेपन को पढ़ने का साहस अवश्य करना और हो सके तो इस पर विचार भी करना।
मेरे द्वारा दिए गए ज्ञान को तो तुम अच्छी तरह से ग्रहण करते हो, क्योंकि ये तुम्हें आर्थिक रूप से संपन्न बनाने में सहायक होगा, लेकिन जहाँ मैं तुम्हें कुछ संस्कार देने का प्रयास करता हूँ, तुम मेरा मजाक उड़ाने लगते हो। अपनी सीधी-सरल भाषा में व्यंग्य घोलकर कहते हो ‘‘ये सभी बेकार की चीजें हैं। आपके समय में इनकी कींमत थी लेकिन अब नहीं है। जमाना बदल गया है।‘‘ ऐसा कहते हुए तुम्हारी हँसी अट्टहास में बदल जाती है और ये अट्टहास मुझे भीतर तक बेधता चला जाता है। तुम मेरा उतरा हुआ चेहरा तो देख लेते हो, लेकिन तरबतर हुई आँखों के आँसू नहीं देख पाते हो, क्योंकि मैंने उन्हें बहने का हक ही नहीं दिया। यदि ये बह निकले, तो तुम्हारे सामने मैं कमजोर पड़ जाऊँगा। फिर अगली बार मेरे संस्कार भाषण पर तुम हँसोगे नहीं, या तो कक्षा से बाहर निकल जाओगे या अपनी हठधर्मिता से मुझे कुछ और कहने से रोक लोगे। मुझे तुम्हारी भावनाओं को समझते हुए अपना संस्कार राग बंद करना होगा और केवल ज्ञान की वीणा बजानी होगी। तभी हमारे बीच तारतम्य स्थापित होगा। तभी तुम मुझे झेल सकोगे। ‘‘झेलना‘‘ कितना पीड़ादायक है ये शब्द!! आज इस शब्द के आवरण से लिपटा हुआ मैं अपनी पहचान तलाशने की कोशिश कर रहा हूँ। मुझे लगता है कि धीरे-धीरे मेरी सही पहचान खत्म होती जा रही है और औपचारिकता हावी होती जा रही है। आज हर विद्यार्थी मुझे झेलता है। आधुनिक तकनीक के उपहार ने एक तरह से मुझे हाशिए पर लाकर खड़ा कर दिया है। इंटरनेट पर क्लिक की ध्वनि के साथ ज्ञान की बौछारें तुम पर ऐसी बरसती  है कि तुम उस ज्ञानवर्षा से पूरी तरह भीग जाते हो। इस ज्ञानवर्षा के बावजूद विद्यालय में मेरा वजूद तुम्हें खींच लाता है। तुम अपने विद्यार्थी होने का कर्तव्य निभाते हुए विद्यालय आते हो और विद्यार्थी जीवन के हर क्षणों को पूरी मस्ती के साथ जीते हो। बदलाव की हवा ही ऐसी चली है कि आज हर विद्यालय ने अपने विद्यार्थियों को सिर-आँखों पर बैठाया है। ‘‘चाइल्ड इज़ सुप्रीम‘‘ कहकर उसे शीर्ष स्थान दिया है। आज के बदलते समय में एक शिक्षक की तुलना में विद्यार्थी सर्वोपरि है। विद्यार्थी है तभी तो शिक्षक है, विद्यालय है। इसलिए विद्यार्थी का सम्मान करो। उसका कभी अपमान मत करो। इस नीति के अनुसार विद्यार्थी को मारना या डाँटना तो दूर की बात, उसके साथ ऊँची आवाज में बात करना या छूना भी कानूनी अपराध है। विद्यार्थी को पूरा अधिकार है कि वो किसी अप्रिय घटना के होने पर कानून का दरवाजा खटखटा सकता है। तुम्हारे अधिकारों का दायरा बढ़ने पर मैं खुश हूँ, किन्तु इन अधिकारों का फायदा उठाते हुए जब तुम छोटी-सी घटना पर भी मुझे दंड देते हुए कानूनी धारा में लाकर खड़ा कर देते हो, तो यह बहुत कष्टकर हो जाता है। मैं इस कष्ट को भी सहन करता हूँ, क्योंकि मुझे तो इसे सहन करना ही होगा। लेकिन मैं देख रहा हूँ कि इसका फायदा उठाते हुए तुम लगातार उच्छंृखल होते जा रहे हो। तुम संस्कारों की भाषा नहीं सुनना चाहते हो, अपने कान बंद कर लो। तुम नैतिक मूल्यों को नहीं समझना चाहते हो, अपने मस्तिष्क की खिड़कियाँ बंद कर लो। तुम आधुनिकता को स्वीकारते हुए, मेरा तिरस्कार करते हुए गलत राहों पर बढ़ना चाहते हो, बढ़ते जाओ। कोई रोक-टोक नहीं, कोई व्यवधान नही। पर याद रखो- अनाचार और अनैतिकता के दलदल में जब धँसोगे, तब तुम्हारी चीखें सुननेवाला कोई न होगा, क्योंकि तुम्हारे आसपास के सभी लोग चीख ही रहे होंगे। तब संस्कारों और नैतिक मूल्यों की मधुर ध्वनि तुम्हारे भीतर से उत्पन्न होगी। जो बहुत पहले मैंने तुम्हारे कानों में फूँकी होंगी। अपनी चीख रोककर उसे सुनने की कोशिश करना। शायद सफलता प्राप्ति के लिए, नए जीवन उद्देश्य के साथ स्वयं को फिर से तैयार कर पाओगे तुम। उस वक्त तुम मुझे याद करो न करो, शांत होकर अपने मन की बात सुनना ही मुझे याद करने के
बराबर होगा।
मुझे विश्वास है, कितने भी आधुनिक हो जाओ तुम, लेकिन मेरे ज्ञान और संस्कारों की मशाल तुम्हारा पथ आलोकित करने में कहीं न कहीं तो एक
छोटी-सी भूमिका अवश्य निभाएगी। इसी विश्वास के साथ ये पत्र लिखने का साहस कर पाया हूँ। ऐ मेरे प्यारे विद्यार्थी, केवल औपचारिकता के लिए मेरा
सम्मान करना बंद कर दो और अपनी आत्मा की आवाज सुनते हुए खुद से प्यार करना सीखो। जो स्वयं से प्रेम करता है, वह संसार की हर वस्तु को प्रेम
करता है और उसका सम्मान करता है।
तुम्हारा प्यारा शिक्षक
…….???……..
Source: https://www.hamarisafalta.com

असफलता के 20 प्रमुख कारण

असफलता के 20 प्रमुख कारण

Image result for failure images
दोस्तों यह टॉपिक ‘नेपोलियन हिल’ की किताब “सोचिये और अमीर बनिये” से प्रेरित है। इस पोस्ट में लगभग उन सारे पॉइंट्स को डिस्क्राईब किया गया है जिसकी वजह से आप या हम सफल होने से चूक जाते हैं।

इस लाइफ में सफलता को लेकर सबसे बड़ा उलझन यह है कि बहुत से लोग खुद को सफल होने के लिए समर्पित कर देते हैं, जोर लगाकर प्रयास करते हैं इसके बावजूद भी उन्हें सफलता नहीं मिलती। सोचने वाली बात यह है कि ज्यादातर लोग इस दुनिया में असफल होते हैं और सिर्फ चंद लोग या बहुत ही कम लोग ही सफलता की ऊँचाइयों पर पहुँच पाते हैं।
‘नेपोलियन हिल’ ने असफल होने और सफलता प्राप्त करने वाले लोगों का गंभीरता से विश्लेषण किया। और उनके शोध में असफलता के पीछे 31 प्रमुख कारणों का पता चला और इस पोस्ट में उनमें से 20 कारणों का विस्तार से वर्णन किया जा रहा है। जब आप इन पॉइंट्स को पढ़ें तो खुद के अंदर झांककर देखें कि कहीं इनमें से एक आदत की वजह से भी आप असफल तो नहीं हो रहे।
(1.) हानिकारक आनुवंशिक पृष्ठभूमि:- यकीन मानिये ऐसे लोग जीवन में कभी भी आगे नहीं बढ़ सकते जिनके सोचने की शक्ति ही कमजोर हो गयी हो। मैं ऐसे भी लोगों को जानता हूँ जो न ही कुछ बड़ा सोचते हैं और यदि आप उनसे अपने अच्छे विचार साझा करते हैं, अपने बड़े सपनों के बारे में बात करते हैं। तो उनका रवैया हमेशा आपको गलत साबित करना ही रहता है। यह उस व्यक्ति को हमेशा कमजोर बनाती जायेगी जो सिर्फ नकारात्मकता की भावना लिए जीते हैं। याद रखिये, असफलता और सफलता का प्रतिशत अधिकतर आपके सोच पर निर्भर करता है। यदि आप अपने अतीत को लेकर हमेशा गलत सोच के बैठे रहेंगे कि आपका कुछ नहीं हो सकता तो यकीनन आप उस बात के साथ बुरा समझौता कर रहे होंगे। क्योंकि नकारात्मक सन्देश जो आप स्वयं के लिए दे रहे हैं आपको हमेशा कमजोर बनाएगा।

(2.) जीवन में अच्छी तरह परिभाषित लक्ष्य का अभाव:- जब तक आपको जाना कहाँ हैं, आप तय नहीं करेंगे तो आप हमेशा खुद को भटकता हुआ ही पायेंगे। वह व्यक्ति जो आँख मूंदकर चल रहा हो, जिसका कोई निश्चित लक्ष्य न हो जिस पर वो निशाना साध सके, उसके लिए सफल होने की आश रखना भी एक बहुत बड़ी गलती के बराबर है। मैंने बहुतों को देखा है, जो बिना सही दिशा के ही मेहनत किये जा रहे हैं, जिनका कोई केन्द्रीय लक्ष्य नहीं है। और शत् प्रतिशत यही उनकी असफलता का सबसे प्रमुख कारण है।

(3.) औसत दर्जे से ऊपर उठने की महत्वाकांक्षा का अभाव:- वही व्यक्ति जीवन में कोई बड़ा मुकाम हासिल करते हैं जो हमेशा अपने कार्य के प्रति समर्पित तथा सजग रहते हैं। और इसके विपरीत जो अपना जीवन सिर्फ आलस्य में, बड़े-बड़े ख्वाब देखते हुए, उदासीन होकर बिताते हैं, जो जीवन में न तो खुद आगे बढ़ना चाहते हैं और जिसके अंदर कुछ पाने के लिए कीमत चुकाने की इच्छा भी नहीं होती उसके सफलता के बारे में सोचना, कोई बुद्धिमानी की बात नहीं होगी।
(4.) अपर्याप्त शिक्षा:– शिक्षा वह माध्यम है जो आपको ऊँचाइयों तक ले जाने में आपकी सहायता करती है। शिक्षित व्यक्ति बनने के लिए सिर्फ कॉलेज की डिग्री ही काफी नहीं होती है। शिक्षित आदमी वह होता है जिसने वह चीज पाना सीख लिया है जो जीवन में पाना चाहता है और इस पूरी प्रक्रिया में वह दूसरों के अधिकारों का हनन नहीं करता। अनुभव से ये बात साबित हो चुकी है कि सर्वश्रेष्ठ शिक्षित लोग अक्सर वे होते हैं जो “स्व-निर्मित” या “स्व शिक्षित” होते हैं। इस बात को समझना बहुत ही जरूरी है कि लोगों को सिर्फ उनके ज्ञान के लिए पैसे नहीं मिलते बल्कि, इस बात के पैसे मिलते हैं कि वे अपने ज्ञान का किस तरह उपयोग करते हैं। शिक्षा के माध्यम से ही अपने अंदर उन गुणों को विकसित किया जा सकता है जिसके द्वारा आप एक सफल इंसान बन सकते हैं।
(5.) आत्म-अनुशासन की कमी:-  अनुशासन का सीधा सम्बन्ध आत्मनियंत्रण से है। आत्मनियंत्रण मतलब खुद को पूरी तरह से अनुशासित करके रखना। खुद को अनुशासित करना सबसे कठिन कार्य रहता है। लेकिन याद रखिये आप ही वो इंसान हैं जो आपकी जिंदगी बदल सकता है। शीशे के सामने खड़े होने पर आपको अपना सबसे अच्छा दोस्त और अपना सबसे बड़ा दुश्मन एक साथ खड़ा नजर आयेगा। बेहतर होगा कि हम अपने नकारात्मक गुणों पर ज्यादा से ज्यादा कंट्रोल करने की कोशिश करें।

(6.) बुरा स्वास्थ्य:- मेरे अनुसार सेहत है तो सफलता है। पर कभी-कभी या ज्यादातर मैं खुद भी अपने काम में इतना डूब जाता हूँ कि मेरा सेहत खराब होना निश्चित हो जाता है। बिना अच्छी सेहत के सफलता का सुख भोगना संभव ही नही है। मुझे इसका एहसास तब होता है जब मैं खुद इस बात का पालन नहीं करता और बीमार पड़ जाता हूँ। बुरे स्वास्थ्य के कई कारणों पर काबू पाया जा सकता है। इनमें से मुख्य हैं:-
अ. सेहत खराब होने का प्रमुख कारण हानिकारक भोज्य पदार्थ की अधिकता है।
ब. सेक्स की अधिकता या उसका गलत प्रयोग।
स. उचित शारीरिक व्यायाम का अभाव होना।
द. नकारात्मक विचारों को मन में शरण देना।
(7.) टालमटोल की आदतें:- टालमटोल की आदत एक भयानक बीमारी के समान है। क्योंकि यह इंसान के लिए सफलता के दरवाजों को बंद कर देता है। टालमटोल करने वाला बूढ़ा आदमी हर इंसान की छाया में खड़ा रहता है और इंतजार करता है कि कब उसे सफलता के अवसर को बिगाड़ने का मौका मिले।
हममें से अधिकांश लोग जीवन भर इसलिए सफल नहीं हो पाते क्योंकि हम किसी महत्वपूर्ण कार्य को शुरू करने से पहले “सही समय” का इंतजार करते हैं। इंतजार मत कीजिये। समय कभी भी पूरी तरह से सही नहीं होगा… जहाँ आप खड़े हैं, वहीँ पर शुरू कर दीजिए और आपके पास जो औजार हैं उन्हीं से काम करना शुरू कर दीजिए। जब आप आगे बढ़ते जायेंगे तो बेहतर औजार आपको अपने आप मिलते जायेंगे। लेकिन बस आप अपने काम में टालमटोल मत कीजिये। आपका मन जिस कार्य को करना चाहता है, उसे करने की इजाजत दीजिए और वो करिये जो सचमुच आप करना चाहते हैं।।
(8.) लगन का अभाव:- हममें से अधिकांश लोग शुरूआत करने में तो बहुत ही अच्छे होते हैं परन्तु अपने शुरू किये गए काम को पूरा करने में बहुत ही कमजोर होते हैं। यही नहीं, लोगों की यह एक बुरी आदत भी होती है कि वे पराजय की संभावना नजर आते ही हिम्मत हार जाते हैं। याद रखिये लगन का कोई विकल्प नहीं होता। वह आदमी जो लगन को अपना मंत्र बनाता है, वह यह पाता है कि असफलता आख़िरकार थक चुकी है और उसके जीवन से हमेशा-हमेशा के लिए दूर जा चुकी है। असफलता कभी भी लगन का मुकाबला नहीं कर सकती।
(9.) निर्णय की उचित शक्ति का अभाव:- जो लोग सफल होना चाहते हैं वे तत्काल निर्णय पर पहुँचते हैं और अगर वे उन निर्णयों को बदलते हैं तो बहुत देर से बदलते हैं। जो लोग असफल होते हैं वे या तो निर्णय ही नहीं ले पाते या फिर बहुत देर से निर्णय लेते हैं और फिर पल भर में पलटकर निर्णय बदल देते हैं। अनिर्णय और टालमटोल जुड़वाँ भाई की तरह हैं। जहाँ एक मिलेगा, आम तौर पर दूसरा भी वहीँ मिलेगा। इन जुड़वाँ भाइयों को मार डालें इससे पहले कि वे आपको असफलता के खूंटे से बांध दें।
(10.) विवाह में गलत जीवन साथी का चुनाव:- गलत जीवनसाथी का चुनाव असफलता के सबसे आम कारणों में से एक है। विवाह का रिश्ता लोगों को अन्तरंग रूप से करीब लाता है। जब तक आप अपने गृहस्थ जीवन में सुख की अनुभूति नहीं करेंगे, तो असफलता निश्चित रूप से आपका पीछा करेगी। इससे भी बड़ी बात यह है कि यह असफलता का ऐसा रूप होगा जिसमें दुःख और कष्ट हैं, जो महत्वाकांक्षा के सभी लक्षणों को नष्ट कर देंगे।

(11.) उत्साह का अभाव:- कोई भी कार्य बिना उत्साह के संभव ही नहीं है। उत्साह के बिना आप आने अंदर किसी भी प्रकार का विश्वास नहीं जगा सकते। यही नहीं, उत्साह संक्रामक होता है और जिसमें यह नियंत्रित अवस्था में होता है, उस व्यक्ति का आम तौर पर सभी लोग स्वागत करते हैं।

(12.) प्रयास में एकाग्रता का अभाव:- सभी कामों में थोड़ी-बहुत जानकारी रखने वाला व्यक्ति अपने कार्यक्षेत्र में विशेष निपुण नहीं होता.. अपने सभी प्रयासों को एक निश्चित और प्रमुख लक्ष्य पर केंद्रित और एकाग्र करें। जब तक आप अपने लक्ष्य से भटकते रहेंगे, सफलता आपसे पीछा छुडाती रहेगी।
(13.) असंयम:- असंयम के सबसे विनाशकारी रूप भोजन, मदिरा और सेक्स की गतिविधियों से सम्बंधित हैं । इनमें से किसी में भी अति, सफलता के लिए घातक होती है।
(14.) असहिष्णुता:- इसका अर्थ होता है कि आप अपने दिमाग में नये विचारों को प्रवेश करने की अनुमति नहीं देते। आपने कुछ नया सीखना बंद कर दिया हो। बंद दिमाग वाला आदमी अपवाद स्वरुप ही आगे बढ़ पाता है। असहिष्णुता के सबसे विनाशकारी रूप धर्म, प्रजाति और राजनैतिक विचारों के मतभेदों से सम्बन्धित हैं…
(15.) अति-सावधानी:- वह व्यक्ति जो जरा भी जोखिम नहीं लेता, आम तौर पर उसे वही मिलता है जो बचा रहता है. क्योंकि दूसरे लोग जिन्होंने जोखिम लिया, अच्छी चीजें चुनकर ले जा चुके हैं.. अति- सावधानी भी उतनी ही बुरी है जितनी कि कम-सावधानी। दोनों तरह की अति से बचें.. यह कतई न भूलें कि जीवन में जोखिम का तत्व हमेशा रहता है।
(16.) जान-बूझकर की गई बेईमानी:- ईमानदारी का कोई विकल्प नहीं है। परिस्थितियों के दबाव के कारण, जिन पर इंसान का कोई नियंत्रण नहीं होता, कोई भी क्षणिक तौर पर बेईमानी कर सकता है। और इससे कोई स्थायी हानि नहीं होगी.. परन्तु ऐसे आदमी के लिए कोई आशा नहीं है जो जान-बुझकर बेईमानी का रास्ता चुनता है। देर सबेरे उसे अपने कार्यों का फल मिलेगा और इसका परिणाम यह हो सकता है कि उसकी प्रतिष्ठा मिट्टी में मिल जाये या वह अपनी स्वतंत्रता तक गँवा बैठे।
(17.) घमंड और अहंकार:- घमंडी इंसान और अहंकारी व्यक्ति, इनके जीवन में हर कदम पर असफलता का टिकाव रहता है. ये दोनों गुण लाल बत्तियाँ हैं जो दूसरों को दूर रहने की चेतावनी देती हैं.. यह दोनों सफलता के लिए घातक हैं।
(18.) फिजूलखर्ची की आदत:- फिजूलखर्ची आदमी कभी भी सफल नहीं हो सकता और इसका प्रमुख कारण यह है कि वह हमेशा गरीबी के डर में जीता है.. अपने आय में से एक निश्चित हिस्सा अलग रखकर नियोजित बचत की आदत विकसित करें.. जब आप व्यक्तिगत सेवाओं की बिक्री में सौदेबाजी करेंगे तो बैंक में रखा पैसा आपके साहस की सुरक्षित आधारशिला होगा.. पैसे के बिना आपको वह लेना होगा जो आपको दिया जा रहा है और आपको वह पाकर खुशी होगी..
(19.) अन्धविश्वास और पूर्वाग्रह:- अन्धविश्वास डर का एक भयानक रूप है। यह अज्ञानता की निशानी भी है.. जो लोग सफल होते हैं वे अपने दिमाग खुले रखते हैं और किसी भी चीज से नहीं डरते..
(20.) नकारात्मक व्यक्तितत्व:- ऐसे आदमी के लिए सफलता के लिए कोई आशा नहीं है जो नकारात्मक व्यक्तित्व के कारण लोगों को अपने से दूर कर देता है.. सफलता शक्ति के प्रयोग के द्वारा आती है.. और शक्ति दूसरे लोगों के सहयोग पूर्ण प्रयासों के द्वारा हासिल की जाती है… नकारात्मक व्यक्तित्व से सहयोग नहीं मिलता…
Note:- यह आर्टिकल सोचिये और अमीर बनिये किताब से प्रेरित है जिसके लेखक नेपोलियन हिल हैं।।
Source: https://www.hamarisafalta.com

खत, जो आपकी जिंदगी बदल सकती है


Image result for letter images
दोस्तों आज मैं आप सभी पाठकों के लिए एक इमोशनल खत लेकर आया हूँ जिसमें हमारी जिंदगी को सुन्दर और बहुत ही खूबसूरत बनाने के बारे में बताया गया है। यह खत एक दादाजी ने अपने पोते के लिए लिखा है।  कृपया इस खत को खुले मन से पढ़ें, मेरी तरह ही ये आपके दिल को भी छू जाएगी।
प्यारे मुन्ना,  इस दुनिया में तुम्हारा स्वागत है। यह बहुत ही सुन्दर, अनोखी और प्यारी जगह है। और तुम्हें इसे और भी सुन्दर और भी प्यारी बनाने के लिए भेजा गया है।  भेजा किसने है? यह आज तक कोई नहीं जान पाया है! और शायद जानकर कुछ हासिल भी नहीं होगा।  इसलिए ऐसे सवालों पर तुम  अपना समय बर्बाद मत करना। हम सबके पास एक सीमित समय होता है, और जितना भी हो कम ही होता है।  इस दुनिया में इतना कुछ है देखने को, जानने को, महसूस करने को कि तुम्हारे पास थोड़ा भी वक्त नहीं है बर्बाद करने को। संभावनाएं असीम है, तुम कुछ भी बन सकते हो, कुछ भी कर सकते हो, इस दुनिया को बदल सकते हो।  हर दिन कुछ नया करना, कुछ नया सीखना, कुछ नया सोचना। और कभी किसी काम को लेकर मन में दुविधा हो तो याद रखना ना करके पछताने से कहीं अच्छा है करके पछताना क्योंकि अगर कुछ काम करने कुछ न भी मिला तो तजुर्बा मिलेगा और वो बहुत  कीमती होता है। हर चीज का तजुर्बा करना, लेकिन किसी भी चीज की आदत मत डालना।  तजुर्बे तुम्हें सही और गलत में फर्क करना सिखाएंगे। गलतियां करने से बचना पर गलतियां करने से डरना मत!  गलतियां वही करते हैं जो कुछ करते हैं  . अपनी गलतियों की जिम्मेदारी लेना, उन्हें सुधारना, दूसरों की गलतियों को माफ़ करना, उन्हें उसे सुधारने का मौका देना।  कोई जान बूझकर कोई गलती नहीं करता, कोई जान-बूझकर बुरा बर्ताव भी नहीं करता।  किसकी जिंदगी में क्या चल रहा है ये कोई भी नहीं जानता। इसलिए सबको वही मौके देना जो खुद को दोगे, सबसे उतनी ही नरमी बरतना जितना खुद पे बरतोगे। सबकी इज्जत करना।  सब पे भरोसा करना और सबसे प्यार करना। इस दुनिया में प्यार की बहुत कमी है बेटा! और सबको इसकी बहुत जरुरत है। तुम्हें भी होगी।  मांगने में हिचकिचाना मत और दिखाने में झिझकना मत। जिंदगी बहुत छोटी है, शर्म के लिए संकोच के लिए आये न आये जी-खोलकर नाचो, गला फाड़के गाना, मन भरके खाना, खुलके हंसना और जोर से रोना।  बस शरीर से ही बड़े होना, मन से नहीं।  जिस दिन अंदर से ये बचपना गया, ये मासूमियत गयी उस दिन समझो जिंदगी गयी।  भविष्य के बारे में सोचना, पर चिंता मत करना।  बीते दिनों को याद करना पर उनमें खो मत जाना।  जिंदगी में कुछ अच्छे दिन आएंगे कुछ बुरे।  अच्छे दिनों में घमंड मत करना और बुरे दिनों में हताश न होना।  सफलता का सारा श्रेय खुद को मत देना और असफलता का जिम्मा दूसरों पर मत थोपना।  बस आगे बढ़ते जाना।  खुशियां बांटते जाना और ये जरूर याद रखना, कि तुम्हें यहाँ सिर्फ एक ही कारण से भेजा गया है कि तुम इस दुनिया को और भी सुन्दर और भी प्यारी जगह बना सको। 

 ढेरों आशीर्वाद के साथ                                                                                                                                         तुम्हारा दादा
Source: https://www.hamarisafalta.com

इच्छाशक्ति को सोने में बदलने के छः सिद्धांत


दोस्तों, लाइफ में हम किसी कार्य को करने के लिए बहुत ज्यादा प्लानिंग करते हैं।  चाहे वो अमीर बनने के लिए हो, चाहे वो एग्जाम में अच्छे नंबर से पास होने के लिए हो, या चाहे वो किसी भी क्षेत्र में सफल होने के लिए हो।
लेकिन किसी भी क्षेत्र में सफल होने के लिए मन में दृढ इच्छाशक्ति का होना अनिवार्य है।
आइये जानते हैं वो छः सिद्धांत कौन से हैं जो हमें सफलता की सीढ़ियों पर चढ़ा सकते हैं:-
(१.) लक्ष्य का चुनाव:- अपने मस्तिष्क में अपने टारगेट को स्पष्ट कर लें कि वाकई आपका लक्ष्य क्या है? यदि आपको धनवान बनना है, पैसे कमाना है, तो उस पैसे की निश्चित राशि दिमाग में क्लिअर कर लें जिसे हासिल करने के लिए आप दिन-रात एक कर सकते हैं। बिना निश्चित या अपरिभाषित लक्ष्य के रास्ता कभी साफ़ नहीं हो सकता। “मुझे बहुत अमीर बनना है, बहुत पैसे कमाने हैं!” ऐसे लाइनो का प्रयोग करने की बजाये एक निश्चित राशि को लेकर विचार करना श्रेष्ठ है, जैसे इन शब्दों की जगह स्पष्ट  का  करें:- “मुझे इस महीने 4,16,666 रूपये कमाने हैं।  चार लाख सोलह हजार छः सौ चैसठ रूपये  इस महीने की मेरी इनकम होगी” “इस रकम के साथ ही अब मुझे आगे बढ़ना है और इन छः महीनों के अंदर 25,00,000 पच्चीस लाख रूपये की राशि के साथ सफलता हासिल करना है।”
लक्ष्य जितना साफ़ होगा, सफलता का प्रकाश उतना ही उजागर होता चला जायेगा। निश्चित रकम निर्धारित करने से आप कभी भी अपनी दिशा से नहीं भटकेंगे, और यह आपकी अमीरी की दिशा में आपका बढ़ता हुआ सही कदम होगा। ऐसे ही लक्ष्य का चुनाव आपको हर उसे कार्यक्षेत्र में सफलता दिलाएगा जिसका आप कई दिनों से सपना देखते आ रहे हैं।  पर दिमाग में लक्ष्य प्राप्ति की इच्छाशक्ति जोरों से होनी चाहिए तभी आप आगे कदम बढ़ा पाएंगे।
(२.) कुछ पाने के लिए बहुत कुछ खोना पड़ता है :- लोग कहते हैं कि कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है।  पर आज की तारीख में मुझे लगता है कि कुछ पाने के लिए बहुत कुछ खोना पड़ता है।  बहुत कुछ खोने से तात्पर्य है कि आप अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए क्या कदम उठा रहे हैं। आप किस भरोसे पर अपने लिए कुछ पाने की उम्मीद करते हैं।  आपने निर्धारित लक्ष्य चुना है कि आप इस महीने 4,16,666 कमाने वाले हैं लेकिन आप इसके लिए क्या कीमत चुकाना चाहते हैं।  कीमत चुकाने से तात्पर्य है, आप ऐसा क्या करने वाले हैं कि इस महीने आपके अकाउंट में धन की एक निश्चित राशि जमा होने वाली है। क्या आप इसके लिए दिन-रात एक करके काम करना पसंद करेंगे, क्या आपके टीम में आप अपना विश्वास दोगुना करना पसंद करेंगे।  आप उन 4,16,666 रूपये जो आपका निश्चित लक्ष्य है उसके बदले  क्या देना चाहेंगे क्योंकि बड़ी सच्चाई यह है कि इस दुनिया में कोई भी चीज मुफ्त में नहीं मिलती।  क्या आप मेहनत करने और कीमत चुकाने को तैयार हैं? इच्छाशक्ति को कार्य में बदलने के लिए आपको मेहनत करना ही पड़ेगा, पसीना बहाना ही पड़ेगा, संघर्ष करना ही पड़ेगा।  याद रखिये शेर को भी शिकार करने के लिए जाना ही पड़ता है, उसको बैठे-बैठे नाश्ता नहीं मिल जाता।  इसलिए सिर्फ कल्पना करने, सोचते रहने, सपने देखते रहने से कुछ नहीं होता, आपको यदि कुछ पाना है, तो अपने नींद चैन को त्यागना होगा। तभी आपका लक्ष्य पूरा होते नजर आएगा।

(३.) निश्चित तारीख का होना:- एक निश्चित तारीख तय कर लीजिये, कि वो कौन-सी तारीख होगी जब आपके बैंक अकाउंट में 4,16,666 रूपये जमा हो गए होंगे।  तारीख तय करने का फायदा यह होता है, कि आप हमेशा समय का ध्यान रखते हुए आगे बढ़ते हैं। आपके कार्य करने की ऊर्जा का सही जगह ही इस्तेमाल होता है।  इसलिए एक निश्चित तारीख तय करना बहुत जरुरी है।  यह कहने की बजाये कि  “4,16,666 रूपये फलाना कार्य के बदले मिलने हैं यह कहिये “मुझे फलाना कार्य करना है जिसके बदले 14 November 2015 को मेरे बैंक अकाउंट में इस महीने का 4,16,666 रूपये जमा होना है। ”
(४.) योजना, जो आपकी इच्छाशक्ति को मजबूत करेगी:-  आपका सबसे मजबूत पड़ाव आपकी अपनी योजना है।  बिना किसी प्लान के आगे नहीं बढ़ा जा सकता।  आपका लक्ष्य स्पष्ट है कि आपको 14 Nov. 2015 को बैंक खाते में चार लाख सोलह हजार छः सौ चैसठ रूपये चाहिए लेकिन यदि आपके पास कोई योजना नहीं तो आगे बढ़ने का सवाल ही खत्म हो जाता है।  एक निश्चित प्लान बना लें कि किस तरह आपको अपनी प्रबल इच्छा को हकीकत में बदलना है।  प्लान बनते ही अपने कार्य में जुट जाएँ।  ये मत देखें कि आपके पास क्या है, क्या नहीं? जो है उसी के साथ अपने योजना के अनुरूप कार्य शुरू कर दें।  जब आप आगे बढ़ते जायेंगे, वो सारी चीजें भी सामने आती जाएँगी जो आपके लिए जरूरी है और उतने समय आप उसे आसानी से हासिल कर पाएंगे।  इसलिए बस कदम बढ़ाने और आपके शुरूआत करने की देरी है।  अपनी योजना के अनुसार आगे बढ़ते चले जाएँ।
(५.) लक्ष्य को हमेशा सामने पाएं:-

आप लक्ष्य क्या है ? उसे हासिल करने के लिए आप क्या कीमत चुकाना चाहते हैं ? उसे कितने दिनों तक साकार करना है ? उसके लिए आपने क्या योजना बनाई है ? ऊपर बताये गए सभी स्टेप को स्पष्ट रूप से संक्षिप्त बनाकर नोट कर लें।  अपने टारगेट की छवि हमेशा मन में बनाते रहें।  उसका प्रिंट आउट निकालकर रखें।  /लैपटॉप/कंप्यूटर /मोबाइल में वॉलपेपर रख दें।  ताकि आप अपनी दिशा से कभी भटकें नहीं।  जब नक्शा सामने हो तो दिशा से भटकने का सवाल ही नहीं उठता।

(६.) आत्मविश्वास को बरकरार रखें:- जब तक मन में उत्साह नहीं आता शरीर अपना कार्य नहीं करता।  यदि आपको अपने अंदर आत्मविश्वास को बनाये रखना है तो आप अपने लिखे हुए स्पष्ट ब्योरे को दिन में दो बार रोज पढ़ें।  एक सोने से पहले और एक बार सुबह उठते है।  सोने से पहले अपने लक्ष्य को याद करना आपको यह बताएगा कि अभी आप कहाँ पहुंचे हैं।  सुबह उठते ही ब्योरे को पढ़ना आपको बताएगा कि आज का काम कितना है और बचे हुए काम को कैसे आगे तक लेकर जाना है। और जब ये दोनों प्रक्रिया साथ-साथ चलती रहेगी तो आपके कदम कभी भी पीछे नहीं मुड़ेंगे।  आप हमेशा इसी उत्साह, जोश और आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ते चले जायेंगे।
दोस्तों, हम उम्मीद करते हैं कि इस आर्टिकल से आप भी अपनी इच्छाशक्ति को सोने में बदल सकते हैं।  अपने कार्य क्षेत्र में चमत्कार कर सकते हैं। अपने सपनों को सच कर सकते हैं। और इन सिद्धातों को अपनी जिंदगी में शामिल करके एक बेहतर जिंदगी जी सकते हैं।
                                                                                          धन्यवाद!
Source: https://www.hamarisafalta.com

ये तीन कहानियाँ बताती हैं कि शुरूआत कहीं से भी हो सकती है




कल्पना सरोज:- कल्पना सरोज, कभी कीटनाशक का जहरीला दवा की तीन बोतलें पीकर मौत चाही थीं लेकिन कमानी ट्यूब्स की एक नामी कम्पनी की CEO  हैं इसका 600 करोड़ का टर्नओवर है। 
इनका जन्म एक गरीब तथा दलित वर्ग में हुआ था। भारत में छोटे जाति में पैदा होने वाले लोगों के साथ पक्षपात किया जाता है, जिसका सामना कल्पना जी को भी करना पड़ा। कल्पना जब अपने दोस्तों से मिलने उनके घर जाया करतीं थीं तो उन बच्चों के माता-पिता उनको घर में घुसने नहीं देते थे। और उन्हें स्कूल के किसी भी कार्यक्रम में भाग लेने नहीं दिया जाता था क्योंकि वे दलित थीं। मन ही मन कल्पना दोहराती रहतीं कि मेरे साथ ऐसा क्यों होता है? आखिर मैं भी तो इंसान ही हूँ!

जब कल्पना 12 वर्ष की हुईं तो उनकी शादी उनसे 10 वर्ष बड़े आदमी से कर दी गई।  शाद के बाद वो मुंबई में अपने पति के साथ झुग्गी में रहीं।  उनके पति के बड़े भाई और भाभी उनके साथ बुरा बर्ताव करते, बालों को नोचते और छोटी-छोटी बातों पर उन्हें पीटते थे। उन्होंने अपने पति से तलाक के लिए कई सामजिक दबावों का सामना किया, वो हर दिन मानसिक रूप से टूटती जा रही थीं।
वे अपनी जिंदगी से तंग आ चुकी थीं, इसलिए वे अपने पिता के साथ अपने गांव लौट आईं।  गांव वालों ने उनका हुक्का-पानी बंद कर दिया। निराशा में कल्पना ने अपनी जिंदगी को ख़त्म करने का फैसला कर लिया और एक कीटनाशक दवा की तीन बोतलें पी लीं। कल्पना के मुंह से झाग आते और उसे कांपते हुए देख उसकी आंटी ने उसे बचा लिया।
जब वो मौत के मुंह से बाहर आईं तो उन्होंने फैसला कर लिया कि अब मरने से पहले इस जिंदगी में कुछ बड़ा करना है।

16 साल की उम्र में वे दोबारा मुंबई लौटीं और हौजरी हाऊस में 2 रूपये रोज  शुरू कर दिया। जब वे 22 साल की हुईं तो उन्होंने स्टील फर्नीचर के  कारोबारी से शादी कर लिया पर कुछ वक्त बाद उनकी मौत हो गयी। फिर उन्होंने खुद कारोबार संभाला। कुछ सैलून बाद कंस्ट्रक्शन बिजनेस शुरू किया और फिर स्टील और शुगर फैक्ट्री खोली।  2006 में 17 साल से बंद पड़ी कमानी ट्यूब्स कंपनी का अधिग्रहण किया। आज कल्पना 600 करोड़ के समूह की CEO है।

वीरेन्द्र सिंह :- वीरन्द्र सिंह, सुन-बोल नहीं सकते।  अपने कोच के इशारों और पहलवानों को देख सीखी कुश्ती।
virender-singh
हरियाणा के झज्जर  वीरेन्द्र गूंगा पहलवान के नाम से मशहूर हैं।  वे सुन बोल नहीं सकते।  सीआरपीएफ में काम करने वाले पिता को कुश्ती पसंद थी। उन्हें देख 5-6 साल की उम्र में वीरेन्द्र भी पहलवानी करने लगे।  लोग उन्हें देखकर ताने कसते थे, कहते थे की देखो अब गूंगा भी पहलवान बनेगा।  पर वे अखाड़े में कोच के होठों की फड़कन और पहलवानों को देखकर दांवपेंच सीखने लगे।  2002 में नेशनल चैम्पयनशिप में टॉप-3 में थे पर अंतराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धाओं के लिए सलेक्शन नहीं हुआ।  वे दुखी हुए, पर लगे रहे, और उन्होंने हिम्मत नहीं हारी।
डीफ़्लिम्पिक्स यानी बधिरों के ओलम्पिक में 2005 (मेलबॉर्न) और 2013 (बुल्गारिया) में स्वर्ण जीता।  पहलवान सुशील कुमार कहते हैं कि वीरेन्द्र से पांच बार भीड़ा पर हरा नहीं पाया।

नवीन गुलिया :- 20 साल पहले डॉक्टर ने कहा था- ज्यादा से ज्यादा तीन दिन की जिंदगी है। 
navin
गुड़गांव के नवीन देहरादून की मिलिट्री एकेडमी में ट्रेनिंग लेते वक्त बाधा-दौड़ में फिसलकर गिरा पड़े।  इस दुर्घटना में रीढ़ की हड्डी टूट गयी और शरीर लकवाग्रस्त हो गया।  डॉक्टरों ने कहा तीन दिन से ज्यादा नहीं बच सकते।  ये बात 1995 की है।  नवीन कहते हैं- ‘मेरी सिर्फ पलकें हिल सकतीं थीं, पर मेरा दिमाग काम कर रहा था।  मैंने खुद से कहा की मैं सब कर सकता हूँ।  और मैं चेतन मस्तिष्क तक बार-बार यह सन्देश भेजता रहा कि मैं ठीक हो रहा हूँ, मैं ठीक हो जाऊंगा और मैं ठीक हो रहा हूँ।  धीरे-धीरे मेरे शरीर ने रिस्पॉन्स करना शुरू कर दिया। दो साल अस्पताल में रहने के बाद व्हीलचेयर पर बाहर आया।  कार में बदलाव कर चीन सीमा से सटे मार्सिलिक दर्रे के सफर पर निकल गया।  माउंट एवरेस्ट के बेस कैम्प से भी 1200 फ़ीट ऊपर 18600 फ़ीट ऊंचाई पर इस दर्रे में महज 55 घंटे में पहुँचने का रिकॉर्ड बना डाला।

दोस्तों, इन तीनों रियल लाइफ हीरोज़ से इंस्पायर प्रेरणादायक कहानियां हमें बताती हैं कि शुरूआत कहीं से भी की जा सकती है।

Source: https://www.hamarisafalta.com

विजेता हमेशा क़दमों के निशान छोड़ जाते हैं


कोई भी सफल व्यक्ति अपनी सफलता का पूरा श्रेय कभी भी खुद को नहीं देता क्योंकि उसे पता होता है कि उसकी कामयाबी के पीछे बहुत सारे लोगों का हाथ होता है। एक सफल इंसान वही होता है जो अपनी पहचान पीछे छोड़ जाये। किसी के कामयाबी के पीछे बहुत सारे लोग शामिल होते हैं, जो कई रूप में हमारे सामने होते हैं जैसे- शिक्षक, माता-पिता, प्रशंसक, सलाहकार, जीवनसाथी।  जब हम संघर्ष से जूझ रहे थे, कठिन परिश्रम कर रहे थे उस वक्त जिन लोगों ने हमें Inspire किया, जिन लोगों ने हमारी मदद की, हम उनका कर्ज कभी चाहकर भी नहीं  चूका सकते। और यदि हम उनके प्रति थोड़ा-सा आभार प्रकट करना चाहते हों तो आने वाली पीढ़ी की मदद करके हम यह कर सकते हैं। एक सच्चे विजेता के पास अपना आभार प्रकट करने का एक ही सबसे बड़ा रास्ता है कि वह आने वाली पीढ़ियों का सही मार्गदर्शन करे।
इस कविता से यह बात साफ़ और स्पष्ट हो जाती है :-

रास्ता बनाने वाला
एक बुजुर्ग, जो एक सुनसान सड़क पर जा रहा था,
शाम होते-होते ठंडा और ठिठुरता पहुंचा,

एक लम्बे, गहरे  और चौड़े दर्रे के करीब,

जिसके अंदर तेज पानी बह रहा था।
बुजुर्ग ने शाम के धुंधलके में उसे पार किया;
पानी की धारा से उसे कोई  डर नहीं लगा;
मगर वह पीछे मुड़ा, सुरक्षित पार कर जाने के बाद,
और उन लहरों के आर-पार एक पूल बनाया।
“ओ बुज़ुर्ग” एक साथी यात्री ने पुकारा,
“तुम इसे बनाने में बेकार की मेहनत कर रहे हो;
तुम्हारी यात्रा  दिन के ढलते ही ख़त्म हो जाएगी;
और फिर तुम कभी इस रास्ते से नहीं गुजरोगे;
तुमने इस चौड़े और गहरे दर्रे को पार कर लिया है —
तुम इस धारा पर पूल  क्यों बना रहे हो?”
उस बुजुर्ग ने अपने सिर को उठाकर कहा,
“प्यारे दोस्त, जिस रास्ते से मैं आया हूँ,
उस राह में मेरे पीछे आ रहा है
एक नौजवान जिसे यहीं से गुजरना है।
यह दर्रा जो मेरे लिए मुश्किल रहा,
उस सजीले नौजवान के लिए एक बड़ा खतरा हो सकता है।
उसे भी शाम के धुंधलके में पार करना पड़ेगा;
मेरे दोस्त, मैं यह पूल उस नौजवान के लिए बना  रहा हूँ। ”
                                                                      —— विल एलेन ड्रमगुले
दोस्तों, हम मन में अधिकतर बार यह वाक्य दोहराते हैं कि ‘ काश किसी ने पहले इस बारे में बताया होता तो आज जिंदगी कुछ और होती ‘  यदि आपको जिस ज्ञान को मिलने में इतनी देरी लगी तो आप उसे सामने वाले तक बांटने में देर क्यों करते हैं।
सुकरात ने प्लेटो को शिक्षा दी, प्लेटो ने अरस्तु को पढ़ाया; अरस्तु, सिकंदर महान के शिक्षक बनें।  याद रखिये ज्ञान यदि एक से दूसरे को न हासिल हुआ होता तो वह मर चूका होता।
यदि आप भी एक सच्चे विजेता बनना चाहते हैं तो अपने ज्ञान को समेटकर मत रखिये, दूसरों के बारे में सोचिये, आने वाली पीढ़ी को आपके ज्ञान की, गाईड की जरूरत है।
कल आपके कारण कोई एक बंदा भी अपने को खुशकिस्मत मानता है और उसकी कामयाबी के पीछे आपका जिक्र करता है तो इससे बड़ी ख़ुशी की बात, किसी के लिए और क्या होगी?
हमारी सबसे बड़ी जिम्मेदारी है कि हम एक ऐसी विरासत दें जिस पर आने वाली पीढ़ियां गर्व कर सकें।
नोट:- यह छोटा-सा मोटिवेशनल आर्टिकल शिव खेड़ा जी के किताब “जीत आपकी ” से प्रेरित है।
Source: https://www.hamarisafalta.com