Thursday, 26 April 2018

भटक तो नहीं गए टाइम ट्रैक से ? Daily Motivation in Hindi


हमारी Life में Time का अपना ही एक Important है । किसी काम को आप कितनी ही बेहतर ढंग से अंजाम क्यों न देते हों लेकिन अगर इसका सही टाइम निकल गया तो यह ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं रह पायेगा ।


बिजनेस में भी हर किसी को यह एक सिग्नल जरूर मिलता है, जो हमको यह संकेत देता है कि हम अपने टाइम प्लान के ट्रैक से भटक रहे हैं । इन सभी संकेतों को समझना चाहिए और कोशिश करना चाहिए कि समय रहते ही हम संभल जाएँ और टाइम की कद्र करें ।
हमको बहुत सारे संकेत मिल सकते हैं जो बताते हैं कि हम टाइम ट्रैक से भटक रहे हैं । आइये जानते हैं कुछ संकेतों के बारे में :-
फोटो क्रेडिट साभार : Shutterstock

टालमटोल की बुरी आदत

डेडलाइन का पता होने पर बहुत सारे लोग यह सोचने लग जाते हैं कि अभी तो बहुत ज्यादा टाइम बचा है । टालमटोल का यही रवैया आपको हड़बड़ाहट में डाल देता है । क्योंकि आप काम तभी शुरू करते हैं जब डेडलाइन एकदम से सिर पर आ जाती है । इस बुरे रवैये को अपनाने से हमेशा बचना चाहिए ।

छूटती डेडलाइन

अगर आप दुसरे दिन प्रोजेक्ट के सबमिशन में देरी कर रहे हैं या कस्टमर को बुलाकर आप खुद ही देर से आ रहे हैं तो इसका सीधा मतलब है कि आप अपने काम को बिलकुल भी सीरियसली नहीं ले रहे या आपने किसी भी तरह की प्राथमिकता तय नही की है । यह भी हो सकता है कि आपने बहुत सारी जिम्मेदारियां ले ली हों या आपके ऊपर बहुत सारी जिम्मेदारियां हों और आपको समझ ही नहीं आ रहा हो कि पहले क्या करना है ?
इसलिए अपने लक्ष्य को क्लियर कीजिये । जब तक आपका एक टारगेट पूरा नहीं होता, अपने मन को भटकने मत दीजिये । ज्यादा से ज्यादा काम को अंजाम देने की कोशिश कीजिये । एक जगह फोकस रखिये, यदि आप बार-बार मन को भटकायेंगे या हर बार एक अलग टारगेट रखकर काम शुरू करेंगे और उसे बीच में ही छोड़ते जाएंगे तो बस आप समय को गुजरने दे रहे हैं ।

सब लोग फ्री, मैं ही बिज़ी

उस टीमलीडर का टाइम मैनेजेमेंट सबसे ज्यादा ख़राब है जो अपने टीम मेम्बर के बीच काम को सही तरीके से बाँट नही पाता । यदि आप ही सभी काम को करने का बीड़ा उठाते हैं तो खुद को ही सबसे बड़ा बेवकूफ समझ सकते हैं ।
यदि आप खुद ही हमेशा काम से घिरे रहते हैं और बाकी के टीम मेम्बर्स फ्री में घूमते रहते हैं तो एक बार टीम के बीच अपने काम के बंटवारे पर जरूर गौर कीजिये । जरूरत से ज्यादा काम अपने साइड ही रख लेना, यही आपके टाइम ट्रैक से फिसलने का एक बड़ा कारण है ।

दोस्तों इन सब बातों पर जरूर गौर करें और आप किस कारण से अपने टाइम ट्रैक से फिसल रहे हैं हमें नीचे कमेन्ट करके बताएं !
धन्यवाद!

MUST READ:

टाइम मैनेजमेंट का सही तरीका Time Management in Hindi


टाइम मैनेजमेंट का सही तरीका Daily Motivation


शॉपक्लूज़ की Co-founder राधिका अग्रवाल Regular अपने Office सुबह 8.30 बजे पहुँच जाती हैं । ऑफिस पहुँचने के बाद वह सिर्फ अपने काम पर ही Focus करती हैं । वह ज्यादा से ज्यादा समय का सदुपयोग करती हैं । इस दौरान न तो वह Music सुनती हैं न ही अपने Email चेक करती हैं । वह सिर्फ और सिर्फ अपने Project पर ध्यान देती हैं ।
इनकी तरह ही बहुत सारे Entrepreneurs हैं जो अलग-अलग तरह से Time Management का इस्तेमाल करते हैं ।
Zivame.com की Founder, Richa Kar कैलेण्डर की Help से अपना Time Management करती हैं ।

Hokey Pokey के Founder रोहन मीरचंदानी अपने टाइम मैनेजमेंट के लिए 1-3-5 का तरीका अपनाते हैं । उनका कहना है कि हर Entrepreneur को रोज 1 बड़ा काम, 3 मीडियम काम, और 5 छोटे काम जरूर पूरे करने चाहिए  ।
अगर आप अपने टाइम को सही तरह से मैनेज करना चाहते हैं तो आपको हमेशा कुछ ख़ास बातों का ध्यान रखना चाहिए । आइये जानते हैं इन ख़ास बातों के बारे में :
फोटो क्रेडिट साभार : lynda.com

ऐसे कीजिये काम

  • दिन की Starting में ही टू डू लिस्ट बनाइए और इसी के अनुसार अपने काम की Planing कीजिये । जब तक आपको clear नहीं होगा कि आप दिन भर में क्या-क्या करने वाले हैं तब बस दिन ही गुजरता जाएगा लेकिन आप एक काम भी ठीक से नहीं कर पाएंगे । इसलिए दिन की शुरुआत में ही तय कर लें कि आज दिन भर में आपको क्या-क्या काम करने हैं !
  • काम की प्राथमिकतायें तय कीजिये । जब तक आपका माइंड क्लियर नहीं होगा कि कौन-सा काम पहले करना है और कौन-सा बाद में तो आप उलझन में ही रहेंगे । प्राथमिकतायें तय करने से आपको एक्शन लेने में परेशानी नहीं होगी ।
  • दिन का एक ख़ास समय खुद के लिए जरूर बचायें । ताकि आप अपने चाहने वालों को भी समय दे सकें ।
  • क्रिएटिव वर्क को सबसे पहले करें ।
  • अपने काम को भरोसेमंद लोगों के साथ शेयर करें ताकि काम बंट सके और पूरा प्रेशर आप पर ही न हो!
  • ई-मेल्स/व्हाट्सऐप को सुबह या रात में ही चेक करें ताकि आपका माइंड डिस्टर्ब न हो सके ।
  • मीटिंग या कहीं बाहर जाने की प्लानिंग एक दिन पहले ही कर लें ।
  • कोशिश करें कि सुबह अपने फ़ोन से दूर ही रहें, ताकि आपका दिमाग शांत हो और पूरे दिन अच्छे से काम कर सकें ।

इन बातों का हमेशा ध्यान रखें

  • हर चीज को लेकर उत्तजित होने से हमेशा बचें । छोटी-छोटी बातों पर शिकायत मत कीजिए । पार्टनर के साथ झगड़ने से बचिए । ऐसा न हो कि पूरा दिन आप किसी को रूठने-मनाने में ही निकाल दें । जो जरूरी काम है उसी पर फोकस करें ।
  • Official और Personal फ़ोन नम्बर अलग-अलग रखें ।
  • Working Hours में सोशल मीडिया से दूर रहें ।
  • ऑफिस से ज्यादा दूर मत रहें, Office के पास में ही घर लें ।
  • गैरलाभकारी कार्यों में खुद को Busy मत रखें ।

टीम की मदद लें

  • टीम मेम्बर्स को हमेशा मोटिवेट करते रहें, उन्हें Time Management और अनुशासन के बारे में बताते रहें ।
  • टीम को पिछले दिन से ज्यादा और अच्छा Result देने के लिए Inspire करते रहें ।
  • कुछ ऐसा System बनाएं जिसमें आपको पता लग सके कि हर कोई अपनी Duty सही से कर रहा है ।
  • अपने Business या काम को किस तरह से और आगे बढ़ाया जाए या Long Term Growth के बारे में अपने टीम से Discuss करते रहें ।
  • हर काम सही टाइम पर हो रहा है कि नहीं इसका पता लगाने के लिए Follow up भी करते रहें ।


दोस्तों आप किस तरह से अपने Time Management का इस्तेमाल करते हैं ।  इसके बारे में कृपया Comment करके बताएं ।
धन्यवाद !
MUST READ:

बिजनेस में जरूरी एरर मैनेजमेंट Business Mantra 01

एक Quote बहुत ही Famous है, यदि आप गलतियाँ नहीं कर रहे हैं तो इसका मतलब है कि आप कुछ नया भी नहीं कर रहे हैं । लेकिन इसका मतलब यह बिलकुल भी नहीं है कि कुछ नया करने के लिए गलती करना जरूरी ही है । इसका सीधा अर्थ हम कुछ इस तरह से समझ सकते हैं :

जब भी आप कोई नया काम करने की सोच रहे हों या कोई नया काम शुरू कर रहे हों तब आपके अन्दर गलतियाँ करने , अपने दम पर रिस्क उठाने और हो चुकी गलती से सीख लेने का जज़्बा होना चाहिए ।
गलतियाँ न करने वाला एक इंसान आत्ममोह में फंस सकता है या Simple Words में कहें तो वह स्वार्थी बन सकता है मतलब सिर्फ अपने बारे में ही ज्यादा सोच सकता है लेकिन अपनी गलतियों को जानने वाला इंसान खुद में सुधार लाने और बहुत सारी नई चीजें सीखने के लिए हमेशा तैयार रहता है ।
फोटो क्रेडिट साभार : shutterstock
बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए बहुत जरूरी है कि Entrepreneurship के सफर में होने वाली गलतियों को सही ढंग से Manage किया जाए । आइये इस पोस्ट में हम इसी से सम्बन्धित कुछ जानकारी आपके साथ शेयर करते हैं :

न बनिए परफेक्ट

इस पूरे World में कोई भी इंसान Perfect नहीं है । तो फिर हम क्यों अपने Mind में Perfection का इतना बड़ा बोझ लादे फिरते हैं ? यह बोझ आपको कभी भी अपने अनुसार जीने नहीं देगा । बिजनेस में अपने द्वारा लिए गलत फैसलों पर खुद को ही कोसते मत रहिये । मुश्किल Situation में फंसने पर अकेले जूझने के बजाए  किसी Expert से Advice ले लेंगे तो आपको मुर्ख नहीं समझा जाएगा । दुनिया की नजर में Perfect बनने के चक्कर में अपनी गलतियों को मत नकारिये । अपनी गलतियों को स्वीकार कीजिये, और अपनी पूरी Energy आगे बढ़ने की तरफ लगाइए । इससे आप Perfect भले ही न हों लेकिन कल से बेहतर जरूर हो जाएँगे ।

गलती को आदत न बनने दें

गलती करने और अपनी गलती से सीखने के साथ-साथ अपनी गलती का रिस्क उठाने की क्षमता विकसित करना अच्छा है लेकिन यदि गलती करना आपकी आदत में शामिल हो जाएगा तो यह नुकसान कर सकता है । आप इस बात पर हमेशा फोकस कीजिये कि एक ही गलती को बार-बार न दोहराएँ । एक ही गलती को दोहराते रहने से आपके कस्टमर्स आपके Competitors के पास जा सकते हैं । अपनी पुरानी गलतियों को ध्यान में रखिये और कोशिश कीजिये कि धीरे-धीरे इन गलतियों को कम किया जाए ।

गलती से फायदा

ज्यादातर लोग गलती करने वाले लोगों को कमजोर मानते हैं लेकिन सच्चाई तो यह है कि गलती करने वाले लोग, सीखने या कुछ नया जानने के मामले में कभी गलती न करने वालों से ज्यादा बेहतर साबित होते हैं । जो लोग गलती नहीं करते उनके मन में एक अहंकार आ जाता है कि हम तो गलती कभी कर ही नहीं सकते लेकिन यहीं पर वे गलतियाँ कर जाते हैं । जबकि जो लोग गलती कर चुके होते हैं वे नम्रता के साथ नई चीजें सीखने के लिए तैयार रहते हैं । यहाँ पर उनका एटीट्युड उन्हें फायदा दिलाता है ।

कहीं बिगड़ तो नहीं जाएगी इमेज

हममे से बहुत सारे लोग यह सोचते हैं कि गलती हो जाने पर हमारी बनी बनाई इमेज ख़राब हो सकती है । यदि हम कोई जॉब कर रहे हैं और उस जॉब से बुरी तरह से ऊब चुके हैं और कुछ खुद का स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं लेकिन बस हम यही सोचकर डर रहे होते हैं कि यदि गलती हो जाए तो सब ख़त्म हो सकता है । लेकिन हर समय पुराने तरीके से काम करते रहने से भी आपकी इमेज कमजोर ही होगी तो क्यों न आप गलती का रिस्क लेकर ही कुछ नया करने की कोशिश करें ।
क्या पता इससे आपका काम बेहतर हो जाए  और आपकी इमेज पहले से भी शानदार बन जाए ।

नया जरूर करते रहिये

पुरानी गलतियों के डर से आप अपने बिजनेस का Flow रोक देते हैं । आपके माइंड में बस यही चीज बैठे रहती है कि आप तो अपने पुराने प्रोजेक्ट या टेकनिक में ही माहिर हैं । और यदि पुरानी तकनीक से काम चल रहा है तो रिस्क क्यों लिया जाए या अपने कम्फर्ट जोन से क्यों बाहर निकलकर कुछ नया करने के एक बड़े चक्कर में फंसा जाए ! ऐसी स्थिति या इस तरह की सोच से हमेशा बचना चाहिए । लगातार कुछ न कुछ नया जरूर करिए । गलती हो जाने के डर से अपने बिजनेस का दम क्यों घोटना । आप तभी आगे बढ़ेंगे जब कुछ न कुछ नया करते रहेंगे ।

गलतियों से मिल जाते हैं कई बड़े लाभ

हम कोई भी काम शुरू करते हैं तो मन में एक डर रहता है कि कहीं कुछ गलती हो गयी तो! इसी गलतियों के डर को मन में रखने से ही हम कुछ बड़े फैसले नहीं कर पाते । हमारे मन में डर बैठ जाता है और हम जैसे हैं वैसे ही रहना पसंद करते हैं । क्यों न इस बार गलतियों से डरकर खुद को पंगु बना लेने के बजाय गलतियों से सबक लेने का सोचें और रिस्क से घिरे बड़े फैसले लेने का साहस जुटाएं, इसी को हम एक बेहतर एरर मैनेजमेंट कह सकते हैं । आज ही एक फैसला कीजिये कि आप अपनी गलतियों को नजरअंदाज करने की बजाय उनसे सीखेंगे और कुछ नया करते हुए जीवन में आगे बढ़ेंगे…
धन्यवाद !
MUST READ: